=
अध्यात्मिक

Dhanteras 2023: धनतेरस के दिन इन 3 स्‍थानों पर दीया जलाएं, साल भर होगी धनवर्षा

′Dhanteras Ke Upay: धनतेरस का त्‍योहार आपके धन में 13 गुना वृद्धि लेकर आता है। इस दिन कोई भी शुभ कार्य करने से आपको उसका 13 गुना फल मिलता है और मां लक्ष्‍मी आपसे प्रसन्‍न होकर आपके परिवार पूरे साल कृपा बनाए रखती हैं। धनतेरस के दिन दीपदान करने का विशेष महत्‍व होता है।

घर से आर्थिक तंगी दूर करने के लिए धनतेरस पर दीपदान करने का महत्‍व शास्‍त्रों में विस्‍तार से बताया गया है। आइए आपको बताते हैं कि धनतेरस पर किन 3 स्‍थानों पर दीपदान करना चाहिए।धनतेरस का त्‍योहार सुख समृद्धि लेकर आता है और इस दिन हमारे घर में सकारात्‍मक ऊर्जा का प्रवेश होता है।

मां लक्ष्‍मी कृपा हम सब पर होती है और हमें धन लक्ष्‍मी की प्राप्ति होती है। धनतेरस पर दीपदान करने का विशेष महत्‍व होता है। पौराणिक मान्‍यताओं के अनुसार धनतेरस के दिन भगवान धनवंतरी का जन्‍म हुआ था। जिन्‍हें आयुर्वेद का जनक माना जाता है। इस दिन 13 दीपक जलाने चाहिए। अगर आप 13 दीए नहीं जला सकते तो घर के इन 3 स्‍थानों पर दीपक जरूर जलाएं, जिनसे आपके घर में धन वैभव बढ़ेगा।

पूजाघर में जलाएं अखंड दीपक- घर से निर्धनता दूर करने के लिए पूजाघर में धनतेरस की शाम को अखंड दीपक जलाएं जो कि जो दीपावली की रात तक जरूर जलता रहना चाहिए। अगर भैयादूज तक अखंड दीपक जलाएं तो आपको और भी लाभ होगा और आपके घर से सभी वास्‍तुदोष दूर होंगे। घर में सुख समृद्धि बढ़ेगी और मां लक्ष्‍मी की कृपा आप सब पर बनी रहेगी।

ईशान कोण में जलाएं दीपक- धनतेरस के दिन ईशान कोण में गाय के घी का दीपक जलाएं। बत्ती में रुई के स्थान पर लाल रंग के धागे का उपयोग करें साथ ही दिए में थोड़ी सी केसर भी डाल दें। इस दीपक को संभव हो तो दीपावली के दिन तक जलाकर रखें। इससे आपके सौभाग्‍य में वृद्धि होगी और मां लक्ष्‍मी की कृपा प्राप्‍त होगी।

काली गुंजा से करें यह उपाय- धनतेरस के दिन घर में तेल का दीपक प्रज्वलित करें तथा उसमें दो काली गुंजा डाल दें। गन्धादि से पूजन करके अपने घर के मुख्य द्वार पर अन्न की ढेरी पर रख दें। साल भर आर्थिक अनुकूलता बनी रहेगी। स्मरण रहे वह दीप रातभर जलते रहना चाहिए, बुझना नहीं चाहिए। आपके घर में मां लक्ष्‍मी की कृपा से अन्‍न और धन में वृद्धि होगी।

नोट – दोस्तों हमारे पेज का उद्देश्य किसी भी प्रकार का अंध विश्वास फैलाना नहीं है, केवल भारतीय समाज द्वारा स्वीकृत कहानियां और प्रथाएं ही आप तक पहुंचाई जाती हैं। हमारा पेज किसी भी प्रकार के अंधविश्वास को नहीं उकसाता। यहां लेख केवल सूचनात्मक उद्देश्यों के लिए हैं। कृपया इन्हें अंधविश्वास के रूप में उपयोग न करें।

तो दोस्तों आप और क्या पढ़ना चाहेंगे हमें अपने कमेंट के माध्यम से बताएं। क्योंकि आपका एक कमेंट हमारा हौसला बढ़ाता है. , यदि आपको यह जानकारी पसंद आती है तो दोस्तों और परिवार को यह जानकारी भेजें। ऐसी नई जानकारियों के लिए आपके पेज से जुड़े रहें, धन्यवाद

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button