=
राशिभविष्य

दशहरे पर शनि होंगे देव, इन राशियों की किस्मत में आएगा पैसा!

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार शनि को न्याय और न्याय तथा कर्म का देवता कहा जाता है। कहा जाता है कि शनि महाराज प्रत्येक राशि को उनके कर्म के अनुसार फल देने का काम करते हैं। इसीलिए वैदिक ज्योतिष में शनि की प्रत्येक गति को विशेष महत्व प्राप्त है। शनि इस समय कुम्भ राशि में स्थिर हैं।

नवरात्रि के नौवें दिन शनिदेव अस्त होंगे। जिससे कुछ राशियों पर शनि का शुभ प्रभाव पड़ सकता है। विशेष रूप से शनि देव के गोचर करने पर सर्वार्थ सिद्धि राजयोग का भी संयोग बनेगा। इस समग्र ग्रह स्थिति के अनुसार अक्टूबर के अंत में कुछ राशियों की किस्मत खुल सकती है और उन्हें भारी धन लाभ के साथ-साथ तरक्की के योग भी बन सकते हैं।

पंचांग के अनुसार 23 अक्टूबर 2023 को सुबह 6:55 बजे कुंभ राशि में ही शनि मार्गी शुरू हो जाएगी और 3 नवंबर को दोपहर 1:25 बजे शनि मार्गी की प्रक्रिया पूरी हो जाएगी। इन दोनों दिन सर्वार्थ सिद्धि योग बन रहा है. इसके अनुसार आइए जानते हैं शनि के इस परिवर्तन से किस राशि को लाभ हो सकता है।

मिथुन राशि भविष्य
मिथुन राशि वालों को शनि के गोचर से अनुकूल वातावरण का अनुभव होगा। धार्मिक कार्यों में आपकी रुचि बढ़ेगी। कार्यस्थल पर आपका सम्मान बढ़ सकता है। आपकी कुंडली में संतान सुख के संकेत हैं। अगले कुछ दिनों में सहनशीलता विकसित करना याद रखें। कानून जो भी हो, नियमों के दायरे में रहें।

तुला राशि भविष्य
शनि का तुला राशि के पंचम भाव में गोचर प्रभावी रहेगा। ऐसे में आपको पारिवारिक सुख मिलने के संकेत नजर आ रहे हैं। महिलाओं के लिए संघर्षपूर्ण वातावरण कम होगा। अपने काम की ठीक से योजना बनाएं और फिर उसके अनुसार कार्य करें अन्यथा समय बर्बाद होने के संकेत हैं। कार्यक्षेत्र में जो तकनीकी दिक्कतें आ रही थीं, वह अब नहीं झेलनी पड़ेंगी। नौकरीपेशा वर्ग के कार्यों में त्रुटियां दूर होंगी। आर्थिक मदद मिलेगी.

मकर राशि (Capricorn Rashi bhavishya)
व्यवसाय में अपेक्षित लाभ दिलाएगा। पैसे बचाएं। राजनीतिक क्षेत्र में जिम्मेदारी न लें। संतान सुख मिलेगा. सही जगह निवेश पर ध्यान दें. चर्चा से नए विचार आएंगे, इसलिए मन में बिना किसी बाधा के सबके साथ खुलकर बात करना फायदेमंद हो सकता है। मानसिक गतिशीलता न बढ़ाएं. मदद मांगने में संकोच न करें.

नोट – दोस्तों हमारे पेज का उद्देश्य किसी भी प्रकार का अंध विश्वास फैलाना नहीं है, केवल भारतीय समाज द्वारा स्वीकृत कहानियां और प्रथाएं ही आप तक पहुंचाई जाती हैं। हमारा पेज किसी भी प्रकार के अंधविश्वास को नहीं उकसाता। यहां लेख केवल सूचनात्मक उद्देश्यों के लिए हैं। कृपया इन्हें अंधविश्वास के रूप में उपयोग न करें।

तो दोस्तों आप और क्या पढ़ना चाहेंगे हमें अपने कमेंट के माध्यम से बताएं। क्योंकि आपका एक कमेंट हमारा हौसला बढ़ाता है. यदि आपको यह जानकारी पसंद आती है तो इसे मित्रों और परिवार को भेजें। ऐसी नई जानकारियों के लिए आपके पेज से जुड़े रहें, धन्यवाद

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button